• Mon. May 27th, 2024

जापान के प्रधानमंत्री पर हुआ हमला

जापानी प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा पर धुएं वाले बम से हमला हुआ। यह हमला उनकी रैली में धमाके के साथ हुआ। हालांकि प्रधानमंत्री को उनके सुरक्षाबलों द्वारा सुरक्षित निकाल लिया गया। इस धमाके की आवाज़ से लोगों में अफरा-तफरी का माहौल बन गया।वहीं हमलावर को पुलिस ने गिरफ़तार कर लिया।

जापान के एक समाचार पत्र जापान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री किशिदा वाकायामा शहर में एक रैली में भाषण देने पहुंचे थे। वह इस माह के आख़िर में होने वाले उप-चुनाव के लिए अपनी राजनीतिक पार्टी- लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार के समर्थन में भाषण देने वाले थे। भाषण के कुछ समय पहले ही धमाका हुआ। हालांकि, धमाके के कुछ समय बाद ही प्रधानमंत्री ने अपना भाषण पूरा किया।

पुलिस ने हमला करने वाले शख़्स की कोई भी जानकारी सार्वजनिक नहीं की है। पुलिस अधिकारी के अनुसार अभी हमलावर की पहचान नहीं हुई है। अभी उससे पूछताछ जारी है, इसके बाद ही पता चलेगा की वो शख्स कौन है और उसके हमले के पीछे का कारण क्या था।

वहां पर मौजूद चश्मदीदों के अनुसार हमले के वक़्त रैली में उपस्थित एक महिला ने कहा कि प्रधानमंत्री किशिदा लोगों से बात कर रहे थे और वो बस पहुंचें ही थे कि एकदम से धमाका हुआ। हम सब डर गए। मेरी तो दिल की धड़कन बढ़ गई। कुछ समझ ही नहीं आ रहा था कि अचानक से क्या हो गया। उस समय कुछ लोग कह रहे थे कि बम फेंका गया है। उसके बाद हम इधर-उधर दौड़ने लगे।

जापान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार यह धमाका जापान के लोकल समयानुसार सुबह 11 बजकर 30 मिनट पर हुआ। इस हमले के बाद लगभग दोपहर 1 बजे प्रधानमंत्री ने वाकायामा शहर में अपना भाषण पूरा किया। उन्होंने कहा कि हम चुनावी अभियान के मध्य उपस्थित हैं और इसे हमें जारी रखना चाहिए। इसके बाद वह उरायसु और इचिकावा शहर में भी अपना भाषण देने जाएंगे।

फुमियो किशिदा वर्ष 2021 में जापान के प्रधानमंत्री बने थे। इसके साथ वह लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के अध्यक्ष भी हैं। उन्होंने वर्ष 2012 से 2017 तक जापान के विदेश मंत्री के तौर पर काम किया और 2017 में जापान के रक्षा मंत्री के रूप में भी कार्यरत थे।

आपको बता दें कि जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे को पिछले वर्ष 8 जुलाई 2022 को रैली में भाषण देते वक़्त उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई। वह आबे नारा शहर में एक चुनावी अभियान के दौरान अपना भाषण दे रहे थे, की तभी एक 42 वर्ष के शख्श ने पीछे से गोलियां बरसाईं। दो गोली लगने के तुरंत बाद आबे ज़मीन पर गिर पड़े। उसके उपरांत उन्हें नारा मेडिकल विश्वविद्यालय अस्पताल ले जाया गया। उन्हें चिकित्सा टीम द्वारा करीब 6 घंटे बचाने का प्रयास किया गया, लेकिन दिल का दौरा पड़ने से उन्होंने अस्पताल में ही दम तोड़ दिया।

अमन ठाकुर – हिमाचल प्रदेश