• Thu. Jun 13th, 2024

दुनिया की सबसे बड़ी पैसेंजर ट्रेन, जिसे चलाते हैं 7 ड्राइवर

क्या आप जानते हैं कि दुनिया की सबसे लंबी ट्रेन किस देश में चली थी और वह कौन सी ट्रेन है? आज हम आपको जिस ट्रेन के बारे में बताने जा रहे हैं वह एक विशालकाय सांप की तरह दिखती है। यह ट्रेन लगभग 2 किलोमीटर लंबी है। चलिए फिर जानते हैं इस अनोखी ट्रेन के बारे में।

प्राकृतिक खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध है स्विट्ज़रलैंड, इसी खूबसूरत जगह पर दुनिया की सबसे लंबी पैसेंजर ट्रेन चली थी। स्विट्ज़रलैंड ने स्विस रेलवे के 175 साल पूरे होने पर 1.9 किलोमीटर की सबसे लंबी पैसेंजर ट्रेन चलाने का दावा किया था। वहीं स्विट्ज़रलैंड की रैटियन रेलवे ने यह दावा किया था कि यह दुनिया की सबसे लंबी ट्रेन है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस ट्रेन को सात ड्राइवर चलाते हैं क्यूंकि इसमें 100 डिब्बे हैं। वहीं इस ट्रेन में 4550 सीटें हैं और इसको आल्पस पहाड़ियों के बीच चलाया गया था। सरकार का इस ट्रेन को चलाने का मकसद दुनियाभर के पर्यटकों को आकर्षित करना है।

रैटियन रेलवे (RhB) द्वारा चलाई गई यह ट्रेन सुंदर मार्ग अल्बुला/बर्निना से गुजरेगी जो 22 सुरंगों और 48 पुलों के लिए काफी प्रसिद्ध है। अल्बुला/बर्निना को 2008 में यूनेस्को की विश्व धरोहर से भी नामित किया गया था। इस मार्ग को स्विट्ज़रलैंड के सबसे बेहतरीन मार्गो में से एक माना जाता है। इस जगह हर साल लाखों पर्यटक प्राकृतिक खूबसूरती को निहारने आते हैं। वहीं इस पूरी यात्रा में 1 घंटे से अधिक का समय लगता है।

इस ट्रेन की छत चांदी की तरह चमकती है, जब यह धूप में चलती है। इस पर आगे अल्पाइन क्रूज लिखा था, जिसमें लगभग 150 यात्री सवार थे। ट्रेन ने सबसे लंबे सर्पिलाकार अल्बुला/बर्निना मार्ग पर यात्रा की, जिसे यूनेस्को के विश्व धरोहर के रूप में चुना गया है। ट्रेन ने प्रीड़ा से अल्वेन्यू तक 25 किमी लंबी दूरी तय की, तकरीबन 3000 लोगों ने यात्रा मार्ग के बीच में एक बड़ी सी स्क्रीन पर इस ट्रेन को चलते हुए देखा।

इस ट्रेन को देखने के लिए लोग बड़ी संख्या में यात्रा मार्ग के बीच में पहाड़ों पर बैठे थे और इस घटना को कैमरे के साथ रिकॉर्ड कर रहे थे। इस खूबसूरत लाल रंग की ट्रेन ने 22 पहाड़ी सुरंगों और 48 पुलों को पार किया। इसमें एक 65 मीटर ऊंचा ब्रिज भी शामिल है। स्विस मीडिया ने इस घटना को बड़े पैमाने पर कवर किया। कईं खोज बिंदुओं को यातायात के लिए बंद कर दिया गया था

आशीष ठाकुर – हिमाचल प्रदेश