• Wed. Jun 23rd, 2021

केंद्र बनाम ममता: बंगाल के मुख्य सचिव के पद से अलपन बंदोपाध्याय ने लिया रिटायरमेंट, अब बनेंगे ममता के विशेष सलाहकार

यास तूफान के बाद रिव्यू बैठक में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का शामिल न होना और फिर बंगाल के मुख्य सचिव पद पर तैनात अलपन बंदोपाध्याय के तबादले की खबर के बाद से बंगाल की ममता सरकार और केंद सरकार के जंग छिड़ गई है।
इस जंग में अब बंगाल की मुखिया ममता बनर्जी ने एक बड़ा दांव खेला है। दरअसल बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुरूआत में मुख्य सचिव के तबादले को लेकर केंद्र से यह गुजारिश की थी की वह अपने इस फैसले पर दोबारा विचार कर ले। बंगाल की मुख्यमंत्री की गुजारिश केंद्र सरकार ने नही सुनी। इसे देखते हुए ही दीदी ने नया दांव खेलते हुए यह कहा कि बंगाल के मुख्य सचिव अब उनके मुख्य सलाहकार के पद पर नियुक्त होंगे।
ममता के इस घोषण के पहले बंगाल के मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय ने रिटायरमेंट की घोषणा कर दी थी। इसके बाद यह जानकारी निकलकर सामने आई की वह अब मंगलवार से ममता बनर्जी के मुख्य सलाहकार के रूप में कार्यभार संभालेंगे।
अलपन बंदोपाध्याय के रिटायरमेंट की घोषणा के बाद अब मुख्य सचिव का पद हरिकृष्ण द्विवेदी को सौंपी गई है।
आपको बतादें की सोमवार को ममता बनर्जी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मुख्य सचिव को तीन महीने का एकसटेंशन दने का अनुमति के लिए 10 मई को पत्र लिखा था। कोरोना के कठिन समय को ध्यान में रखकर उनके कार्यकाल को बढ़ाने की अनुमति के लिए पत्र लिख अपील की थी।
वहीं ममता के इस नए दांव के बाद यह जानकारी निकलकर सामने आ रही है कि केंद्र सरकार अलपन बंदोपाध्याय के खिलाफ रिटायरमेंट के बाद भी कार्रवाई करेगी। केंद्र की ओर से उन्हें चार्जशीट भी दी जा सकती है।
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यास तूफान के रिव्यू मीटिंग में पहले तो ममता बनर्जी और मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय पहले तो देर से पहुंचे और फिर आने के बाद वह कुछ मिनटों में ही मीटिंग से निकल गए। बंगाल में हुए इस घटना के बाद से ही ममता और केंद्र सरकार के बीच एक बार फिर ठन गई है। अब देखना होगा की केंद्र और ममता की यह खींचतान कब जाकर खत्म होगी।
सौरव कुमार