• Thu. Jun 13th, 2024

तेलंगाना में बढ़ रहा है इस पार्टी का जनाधार

Nov 24, 2023 ABUZAR

तेलंगाना विधानसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आना शुरु हो गया है। वैसे-वैसे यहां का मुकाबला दिलचस्प होता जा रहा है। यहां कांग्रेस और भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) के बीच जबरदस्त टक्कर हो रही है। कांग्रेस तेजी से बीआरएस इलाकों में अपनी पकड़ बनाना शुरु कर रही है।

कुछ समय पहले तक बीआरएस का गढ़ माने जाने वाले उत्तरी तेलंगाना में कई विधानसभा सीटें अब स्विंग सीटों के रूप में उभरना शुरु हो चुकी है। यहां लोकल मुद्दे नतीजों को तय करने में महत्वपूर्ण कदम निभाने वाले हैं. कुल मिलाकर बीआरएस और कांग्रेस की चुनावी किस्मत हैदराबाद एरिया और उत्तरी तेलंगाना की स्विंग सीटों में निर्भर हो चुके हैं।

उत्तरी तेलंगाना के 10 जिलों आदिलाबाद, कोमाराम भीम आसिफाबाद, निर्मल, जगतियाल, मंचेरियल, निज़ामाबाद, पेद्दापल्ली, करीमनगर, राजन्ना सिरिसिला और कामारेड्डी में भी अब मुकाबला दिलचस्प हो गया है। इन इलाकों में विधानसभा की 32 सीटें आती हैं. बीआरएस की ऐतिहासिक रूप से पूर्ववर्ती आदिलाबाद, निज़ामाबाद और करीमनगर जिलों में मजबूत पकड़ हो चुकी है। यही वजह है कि 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में बीआरएस ने यहां की 32 में से 28 सीटें जीत लिया था।