• Sat. Jun 22nd, 2024

एक ऐसी सुविधा जिससे बिजली का बिल हो जाएगा आधा

आम नागरिकों को ज़ोर का झटका दे रहा है बिजली का बिल, ऊपर से बढ़ती महंगाई की मार। लेकिन छत्तीसगढ़ राज्य में एक योजना के चलते मिलने वाले लाभ से लोगों में काफ़ी ज़्यादा ख़ुशी है, वह योजना है (हाफ बिजली बिल योजना)। आपको बता दें कि इस योजना के तहत उपभोक्ताओं को आधे पैसे ही देने पड़ते हैं, इसके तहत 65 लाख से ज़्यादा परिवारों को रियायती बिजली का लाभ मिल रहा है।

इससे उपभोक्ताओं की काफ़ी बचत हो रही है, जानकारी के अनुसार राज्य के लोगों की करोड़ों रुपये की बचत पिछले तीन सालों में हुई है। ऊर्जा विभाग की ओर से बताया गया है कि राज्य के 42 लाख उपभोक्ताओं को सीधा लाभ हाफ बिजली बिल योजना से मिल रहा है।

हाफ बिजली बिल योजना के अतिरिक्त राज्य सरकार कृषक जीवन ज्योति योजना के अंतर्गत स्थायी और अस्थायी बिजली कनेक्शन वाले किसानों को 3 से 5 अश्वशक्ति के कृषि पंपो के बिजली बिल में 7500 यूनिट प्रतिवर्ष और 3 अश्वशक्ति तक के कृषि पंप के बिजली बिल में 6000 यूनिट प्रतिवर्ष की छूट दे रही है।

बिजली बिल योजना से लाभान्वित 6.26 लाख से ज़्यादा किसान, 16.82 लाख BPL बिजली उपभोक्ता और 41.94 घरेलू बिजली उपभोगता शामिल हैं। हाफ बिजली बिल योजना के अंतर्गत घरेलू उपभोक्ताओं को 400 यूनिट प्रति माह बिजली की खपत पर 50 प्रतिशत की छूट मिल रही है।

बता दें कि छत्तीसगढ़ में यह योजना 1 मार्च 2019 से लागू की गई है। साथ ही एकल बत्ती कनेक्शन योजना में हर महीने 30 यूनिट बिजली निशुल्क दी जा रही है, उन परिवारों को जो गरीबी रेखा के नीचे जीवन व्यतीत करते हैं।

हाफ बिजली बिल सुविधा की एक शर्त है कि इस सुविधा का लाभ लेने के लिए उपभोक्ता के बिजली बिल की बकाया राशि शेष नहीं होनी चाहिए। लेकिन उपभोक्ता उस योजना का लाभ लेने के लिए पात्र हो जाएंगे यदि वह पहले की बिल की बकाया राशि का संपूर्ण भुगतान करते हैं। इस छूट का लाभ उन उपभोक्ताओं को नहीं मिलता जो दो महीने से अधिक समय तक बिजली का बिल जमा नहीं करते हैं।

आशीष ठाकुर – हिमाचल प्रदेश