• Sun. Jun 16th, 2024

यूरिक एसिड बढ़ने से हो सकता है नुकसान, इन बातों का रखें ध्यान

Aug 16, 2023 ABUZAR

आपके यूरिक एसिड को लेकर जानकारी मिली है कि 3.5 से 7.2 mg/dL मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर यूरिक एसिड की मात्रा होना चाहिए। कई बार कुछ कारणों की वजह से हमारे खून में देखा जाए तो यूरिक एसिड की मीटर 7 mg/dL को पार कर जाता है। यूरिक एसिड पेशाब के रास्ते शरीर से बाहर निकलना शुरु हो जाता है। लेकिन जब यूरिक एसिड जरूरत से ज्यादा शरीर में बनने लगता है, तो यह यूरिक एसिड क्रिस्टल के रूप में हड्डियों के जोड़ों में देखा जा रहा है। ऐसा होने से जोड़ों में दर्द होने लगता है।

इसे अर्थराइटिस या गठिया भी जाना जाता है। गठिया के दर्द में दवा से थोड़ी देर के लिए राहत तो मिल जाती है लेकिन यह हमेशा के लिए ठीक नहीं हो रही है। इस दर्द से राहत पाने को लेकर कुछ बातों का ध्यान देने की जरुरत होती है। साथ ही आप आयुर्वेदिक हर्ब्स का सेवन कर सकते हैं। इसके अच्छ रिजल्ट्स मिलेंगे। हर्ब्स में आप सुबह-सुबह कुछ पत्तों का चबा सकते हैं, इससे गठिया के दर्द का स्थायी राहत मिलने वाली है।

धनिया पत्ता का करना होता है सेवन

धनिया के पत्ते में यूरिक एसिड को कम करने के गुण रहते हैं। धनिया कई औषधीय गुणों से भरपूर है। धनिया के पत्ते में कैल्शियम, पोटैशियम, थियामिन, फॉस्फोरस, विटामिन सी, विटामिन के सहित कई पोषक तत्व प्रचूर मात्रा में शामिल रहता है। धनिया के पत्ते खून में क्रिएटिनीन लेवल और यूरिक एसिड को कम करने में सहायक होता है।

तेज पत्ता होता है लाभदायक

किचन के अलावा तेज पत्ता आपके सेहत के लिए भी काफी गुणकारी माना जा रहा है। तेज पत्ता में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। तेजपत्ता खून में यूरिक एसिड की मात्रा को कंट्रोल करना शुरु हो गया है। साथ ही इसमें एंटी-इंफ्लामेटरी पाए जाते हैं जो खून से यूरिक एसिड को साफ करता है। तेजपत्ता की चाय बनाकर इसका सेवन कर सकते हैं। इससे दर्द में आराम मिलने की पूरी उम्मीद है।