• Mon. Oct 18th, 2021

राजस्थान: पुलिस मामले को नजरअंदाज नही करती तो एक व्यक्ति की जान नही जाती- हनुमान बेनीवाल

आरएलपी संयोजक व नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने कल इन्द्रचन्द नामक युवक के साथ हुई मारपीट के बाद मृत्यु के मामले में अपना वक्तव्य जारी करते हुए पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़े किये, साँसद ने कहा की नागौर कौतवाली थाने ने सूचना मिलने के बावजूद पुलिस ने घटना को ट्रेस करने व संज्ञान लेने में अनुचित देरी की और यह देरी नहीं होती तो शायद मृतक की जान बचाई जा सकती थी साथ ही उन्होंने कहा की मृतक जिस विवाहित के साथ लिव इन मे रह रहा था,उस विवाहिता ने 3 दिवस पूर्व नागौर एसपी के समक्ष पेश होकर खुद व मृतक इन्द्रचन्द की जान को खतरा बताने का जिक्र किया उसके बावजूद एसपी ने कोई संज्ञान नही लिया वही विवाहिता के पति ने रोल थाने में भी कुछ दिवस पूर्व विवाहिता के सम्बन्ध में मामला दर्ज करवाते हुए यह जिक्र किया था की उसकी पत्नी आभूषण लेकर चली गई और किसी अन्य के साथ रहने लग गई ,उसके बावजूद रोल थाने की पुलिस ने कोई कदम नही उठाया और इस पूरे प्रकरण के पहलुओं को ध्यान में रखा जाएं तो कोतवाली थाना अधिकारी व रोल थाना अधिकारी की भूमिका भी संदेहास्पद लगती है क्योंकि पुलिस किसी भी पक्ष को समय और सुनकर संज्ञान लेती तो आज एक व्यक्ति की जान बच जाती इसलिए इस पूरे मामले में पुलिस की भूमिका की उच्च स्तरीय जांच करने व सभी हत्यारो की गिरफ्तारी करने की मांग की वही इस मामले के साथ नागौर जिले में बढ़ते अपराधों को लेकर राज्य के पुलिस महानिदेशक एम एल लाठर व अजमेर रेंज आईजी से दूरभाष पर वार्ता की !

-निरंजन चौधरी, जयपुर।