• Mon. Oct 18th, 2021

बड़ी नेता के रूप में उभर रही हैं ममता बनर्जी, राजनीति में बढ़ रहा कद।

भवानीपुर विधानसभा उपचुनाव में भारी जीत से ममता बनर्जी केवल राज्य का मुख्यमंत्री ही नहीं बनी रहेंगी, बल्कि राष्ट्रीय राजनीति में भी उनका कद बढ़ेगा। भाजपा विरोधी राजनीति में इस समय ममता बनर्जी सबसे बड़ा नाम है। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव और उसके बाद उपचुनाव में सफलता ने उन्हें और मजबूत किया है। जबकि कांग्रेस को लगातार झटके लग रहे हैं और देश में भाजपा के खिलाफ एक मजबूत विपक्ष और नेतृत्व की तलाश की जा रही है। वैसे तो विपक्षी दलों में कई बड़े दिग्गज नाम हैं।असम और गोवा जैसे राज्यों पर भी उनकी नजर है। वहां पर वह ऐसे नेताओं को जोड़ रही हैं।उस समय ममता बनर्जी की खुद की क्या भूमिका होगी, यह सबसे बड़ा सवाल होगा। क्योंकि जिन राज्यों में चुनाव होने हैं, वहां पर तृणमूल कांग्रेस कहीं नहीं है। ऐसे में ममता बनर्जी या तो भाजपा विरोधी दलों का समर्थन कर सकती हैं या फिर कुछ राज्यों में अपनी दस्तक भी दे सकती हैं।भाजपा विरोधी भूमिका को और मजबूती से रखना होगा। भले ही वह चुनाव लड़ने के बजाय प्रचार के स्तर पर ही सीमित क्यों न हों। ममता बनर्जी की इस बढ़ती ताकत से अन्य क्षेत्रीय दलों को दिक्कत हो सकती है। कांग्रेस की भी दिक्कतें बढ़ सकती हैं।भाजपा के लिए बड़ी चुनौती बनकर उभर सकती है। इसके अलावा वह क्षेत्रीय दलों की एकता को भी पसंद नहीं करेगी।

सतीश कुमार