• Thu. Apr 18th, 2024

सोने चांदी के दामों देखी गई नरमी

Jul 29, 2023 ABUZAR

अंतरराष्ट्रीय बाजार में गिरावट आने से सराफा बाजार में सोना-चांदी के दाम नरम देखने को मिला है। कॉमेक्स पर सोना ऊपर में 1968.20 डॉलर प्रति औंस जाने के बाद यह 1961.90 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया था। चांदी ऊपर में 24.98 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार किया बाद में यह 24.64 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया। इंदौर सराफा बाजार सोना कैडबरी नकदी में (99.50) 60350 रुपए प्रति दस ग्राम। 22 कैरेट 55690 रुपए प्रति दस ग्राम हो गया था। चांदी (एसए) चौरसा नकदी में 73200 व टंच 73300 रुपए प्रति किलो रही। आरटीजीएस में सोना कैडबरी 60800 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी (एसए) चौरसा 75200 रुपए किलो रही। चांदी सिक्का 825 रुपए प्रति नग हो गया था।

70 हजार बोरी प्याज की आवक
इंदौर. देवी अहिल्याबाई होलकर फल एवं सब्जी थोक मंडी में 70 हजार बोरी प्याज की आवक हुई। आगरा से आलू की 10 गाड़ी आई, जो 1100 से 1200 रुपए क्विंटल बिकना शुरु हो गई थी। लहसुन ऊंटी क्वालिटी 13000 से 13500, देशी लहसुन 12000 से 12500, एवरेज 10000 से 11100, चिप्स क्वालिटी का आलू 1600 से 1700 व ज्योति 1300 से 1500, प्याज सुपर बेस्ट 1000 से 1300, बेस्ट 600 से 900 व गोल्टी 800 से 1100 रुपए क्विंटल तक पहुंच गया था।
\
वैश्विक बाजार के मुकाबले घरेलू बाजार में खाद्य तेलों में गिरावट नहीं
इंदौर. हालांकि हाल के महीनों में घरेलू बाजार में खाद्य तेलों का भाव नरम पड़ा है मगर वैश्विक बाजार के मुकाबले इसमें कम गिरावट आई है। भारत खाद्य तेलों का सबसे बड़ा आयातक देश है और अक्सर कहा जाता है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में आने वाले उतार-चढ़ाव का घरेलू खाद्य तेल बाजार पर सीधा और गहरा प्रभाव पड़ना शुरु हो जाता है।

वर्ष 2021-22 के दौरान देश में खाद्य तेलों की कुल खपत बढक़र 258 लाख टन पर पहुंच गई जो एक दशक पूर्व के मुकाबले करीब 60 लाख टन अधिक थी। मई 2022 से मई 2023 के बीच अंतरराष्ट्रीय बाजार में विभिन्न खाद्य तेलों के दाम में जोरदार गिरावट दर्ज की गई जबकि भारत में भाव ज्यादा नीचे नहीं हुआ था। मई 2022 से जुलाई 2023 के दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड पाम तेल तथा आरबीडी पामोलीन के दाम में करीब 45 प्रतिशत की जरोदार गिरावट आई मगर भारत में वनस्पति (घी) का भाव केवल 21 प्रतिशत तथा पाम तेल का दाम 29 प्रतिशत ही घटा। सोयाबीन तेल एवं सूरजमुखी तेल के मामले में भी ऐसा ही हो गया था।