• Sat. Oct 1st, 2022

उत्तर प्रदेश में जुमे की नमाज़ के बाद जमकर हुई हिंसा, कई लोगों को किया गया गिरफ्तार

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश में जिस चीज का डर बना हुआ हैं, वहीं हो चुका है। शुक्रवार को देखा जाए तो जुमे की नमाज के बाद यूपी के कई शहरों में हिंसा काफी तक भड़क चुकी है। प्रयागराज में हालात सबसे ज्यादा खराब होना शुरु हो गए हैं। पथराव में डीएम, एसएसपी, एडीजी, आईजी घायल को भी चोट आ चुकी है। एसपी की गाड़ी टूट गई है। पीएसी के वाहन समेत 7 से ज्यादा गाड़ियों को फूंक दिया गया है। इसमें आगजनी भी कर दी गई है।

प्रयागराज में हालात इतने ज्यादा बेकाबू हो गए थे कि एडीजी को बंदूक उठाना पड़ गया था। अब यहां दो बुलडोजर मंगाए गए हैं, जो बवाल में शामिल लोगों वाले अवैध निर्माण को ध्वस्त किया जाएगा। अधिकारियों ने लोगों से उनके घरों से जुड़े कागज मांग लिया है।

उधर, मुरादाबाद और सहारनपुर में भी नमाज के बाद भीड़ हिंसक होना शुरु हो गई है। पथराव के बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ गया था। प्रदेश में अब तक 136 उपद्रवी गिरफ्तार हो चुके हैं। इनमें सहारनपुर में 45, प्रयागराज में 37, अंबेडकरनगर में 23, हाथरस में 20, मुरादाबाद में 7 और फिरोजाबाद में 4 आरोपियों की गिरफ्तारी हो गई है। हिंसा के बाद सीएम योगी ने दंगाइयों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिया जा चुका है। गृह विभाग ने सभी डीएम से रिपोर्ट मांग लिया है।

प्रयागराज के अटाला इलाके में बात करें तो भड़की हिंसा में हमलावरों ने देसी बमों से पुलिस पर हमला कर दिया है। एडीजी प्रेम प्रकाश का गनर पथराव में गंभीर रूप से घायल हो गया है। आईजी प्रयागराज राकेश सिंह पत्थर लगने से बुरी तरह चोटिल हो गए थे। DM संजय कुमार खत्री और SSP अजय कुमार को पत्थर लग गया था। हिंसक भीड़ ने सड़क पर खड़े वाहनों में तोड़फोड़ किया था। उनको फूंक दिया। गलियों में घरों की छतों से पथराव हुआ था। पुलिस ने भी इसके जवाब में पत्थर फेंक दिया था।

एडीजी प्रयागराज प्रेम प्रकाश ने जानकारी दिया है कि पथराव में छोटे बच्चे आगे आना शुरु हो गए, तो पुलिस ने ज्यादा बल प्रयोग नहीं किया था। हिंसा में वामपंथी संगठनों का हाथ मिलने की आशंका जताई गई है।

अंज़र हाशमी, उत्तर प्रदेश