• Tue. Jul 16th, 2024

रशिया में जारी है आजादी की जंग

May 28, 2023 ABUZAR ,

नई दिल्ली: रूस-यूक्रेन युद्ध शुरू हुए एक साल से अधिक हो गया। युद्ध में दोनों देशों ने पूरी ताकत लगाना शुरू किया है। युद्ध के दौरान, आपने रूस की प्राइवेट आर्मी वैगनर समूह के बारे में जरूर सुना होना, जो इस समय रूस के लिए यूक्रेन से लड़ने को तैयार है। इसी तरह, आज हम आपको एक ऐसे गुट के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसका गठन तो रूस-यूक्रेन युद्ध के समय किया गया था, लेकिन ये गुट रूस के खिलाफ लड़ रहा है और रूसी राष्ट्रपति पुतिन को चुनौती दे रहा है। इसका नाम है फ्रीडम ऑफ रशिया दिया है।

कौन है फ्रीडम ऑफ रशिया
फ्रीडम ऑफ रशिया (Freedom of Russia) एक ऐसा समूह है, जिसका गठन वर्ष 2022 में ही गया था। इस समूह ने एक नया रूस बनाने का ऐलान हो चुका है। इसका कहना है कि वे एक रूसी नागरिक होने के तौर पर ऐसा करता है। फ्रीडम ऑफ रशिया का मकसद रूस से पुतिन को उखाड़ फेंकना है और रूस में नई सरकार की स्थापना करने की जरूरत है।

फ्रीडम ऑफ रशिया को मिलिशा के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस गुट में अधिकतर लोग रूसी सेना से निकले हुए फाइटर होने वाले हैं। इसके साथ ही इस गुट में ऐसे लोग भी शामिल हैं, जो हथियार चलाना लेकर मशहूर हैं। चूंकि ये गुट पुतिन के खिलाफ है। इसलिए, गुट में पुतिन विरोधी लोग अधिक संख्या में शामिल हैं। इस गुट का काम कई भागों में बंटा गया है।

फ्रीडम ऑफ रशिया के बारे में कहा जाता है कि इस गुट में एक हजार से अधिक लोग ऐसे हैं, जो हमेशा सक्रिय रहते हैं। हालांकि, कुल कितने सदस्य हैं, इसके बारे में सटीक जानकारी नहीं मिल गई है। इसमें ऐसे लोग शामिल हैं, जो रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण परेशान हो चुके हैं। फ्रीडम ऑफ रशिया अपनी बैठकें कीव से कर रहा है।