• Fri. Jul 12th, 2024

सदन की कार्यवाही रोकने वाले विपक्षी दलों ने की निलंबन को लेकर मांग, लागतार संसद में होता रहा हंगामा

नई दिल्ली: राहुल गांधी की बात करें तो लोकतंत्र के हनन के आरोपों पर आक्रोशित भाजपा को लेकर हमला और तेज़ हो गया है। सदन के अंदर और बाहर कई मंत्रियों ने राहुल गांधी की तरफ से मांग कर दिया है। जबकि स्मृति इरानी ने कहा कि राहुल लोकतंत्र खत्म होने की बात कर रहे हैं जबकि सच्चाई यह है कि राहुल के कारण कांग्रेस खत्म हो रही है।

सदन की कार्यवाही की बात करें तो हिस्सा लेने की अपील
दूसरी ओर कांग्रेस अदाणी हिंडनबर्ग विवाद पर जेपीसी की मांग के साथ हमला कर रहे हैं। ऐसे में जब तीसरे दिन भी कामकाज नहीं हुआ था। पीयूष ने ऐसे सभी सदस्यों को निलंबित किए जाने का सुझाव दिया जो संसद के कामकाज को लेकर रोक चल रही है। लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला और राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ ने जानकारी दिया है कि सत्तापक्ष और विपक्ष दोनों तरफ के सांसदों को शांत रहने के अलावा और सदन की कार्यवाही में हिस्सा लेने को लेकर अपील किया था।

ओम बिरला ने प्लेकार्ड लेने के साथ हंगामा कर रहे विपक्ष की सांसदों को चेतावनी देते हुए बताया है कि प्लेकार्ड और नारेबाजी की अनुमति सदन में नहीं दिया जा सकता। लेकिन उनकी अपील बेअसर हुई है। वहीं सरकार की ओर से पीयूष गोयल ने बताया है कि राहुल माफी नहीं मांगते हैं और कुछ सदस्यों को लगता है कि राहुल ने कुछ गलत नहीं कर रहे हैं व कामकाज में बाधा डालते हैं तो उन्हें निलंबित करना ही बेहतर विकल्प होता है। उनके अनुसार, यदि उन्हें संसद को बदनाम करने को लेकर अहसास नहीं माना जा रहा है, तो आगे भी वे ऐसा करते आ रहे हैं।

स्मृति ईरानी ने दिया जानकारी

वहीं बुधवार को संसद की कार्यवाही आरंभ होने के पहले पहले ही केंद्रीय महिला व बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी के भाषणों की बात करे तो देश की जनता का अपमान करार दिए था। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को संसद के अलावा देश की जनता से भी माफी मांगनी की जरूरत मानी जा रही है।

अंज़र हाशमी – उत्तर प्रदेश