• Tue. Jul 16th, 2024

नेपाल के प्रधानमंत्री करेंगे भारत का दौरा

काठमांडो/नई दिल्ली: सङ्घीय लोकतान्त्रिक गणराज्य नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल ‘प्रचण्ड’ भारत गणराज्य की यात्रा पर जा रहे हैं। इसमें वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य नेताओं के साथ द्विपक्षीय रिश्तों को सदियों से पुराने और बहुआयामी बनाने के लिए चर्चा करेंगे। इस यात्रा के दौरान कई समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। नेपाल के विदेश मंत्रालय ने बताया कि इससे पहले पिछले साल दिसंबर 2022 में प्रधानमंत्री पद को संभालने के बाद यह प्रचण्ड की पहली विदेश यात्रा होगी।

गंगा दहल, प्रधानमंत्री प्रचंड की बेटी, इस यात्रा में उनके साथ शामिल होंगी, जिसकी जानकारी नेपाली विदेश मंत्रालय ने दी। प्रचंड प्रधानमंत्री मोदी के आमंत्रण पर भारत की यात्रा करेंगे। उनके नेतृत्व में मंत्रियों, सचिवों, और वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों का एक प्रतिनिधिमंडल भी यात्रा में शामिल होगा। इस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री प्रचंड भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ से मुलाकात करेंगे।

प्रचंड के भारत दौरे से रिश्तों को किया जाएगा मजबूत
विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि यह प्रचण्ड का चौथा भारत दौरा है, जिसे वे नेपाल के प्रधानमंत्री के रूप में कर रहे हैं। यह दौरा नेपाल और भारत के मध्य सदियों पुराने, बहुआयामी और सौहार्दपूर्ण रिश्तों को और मजबूत करेगा।

भारत में रहने वाले नेपाली समुदाय को भी करेंगे संबोधित
नेपाल के प्रधानमंत्री नई दिल्ली में आयोजित होने वाले नेपाली चैम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्री और भारतीय उद्योग परिसंघ के संयुक्त तत्वाधान में व्यापार सम्मेलन को संबोधित करेंगे। वे भारत में नेपाली राजदूत शंकर प्रसाद शर्मा द्वारा आयोजित किए जाने वाले समारोह में नेपाली समुदाय के साथ चर्चा भी करेंगे।

प्रचंड करेंगे उज्जैन-इंदौर का दौरा
नेपाल के विदेश मंत्रालय के मुताबिक, 3 जून को नेपाल की राजधानी काठमांडो लौटने से पहले प्रधानमंत्री प्रचंड का मध्य प्रदेश राज्य के उज्जैन और इंदौर का दौरा करने का भी कार्यक्रम है।

दोनों देशों के मध्य द्विपक्षीय रिश्ते मजबूत हुए: भारत गणराज्य
भारत गणराज्य के विदेश मंत्रालय ने कहा कि सहयोग के सभी क्षेत्रों में पिछले कुछ सालों में दोनो देशों के मध्य द्विपक्षीय रिश्ते बेहद मजबूत हुए हैं। यह यात्रा द्विपक्षीय साझेदारी को और रफ्तार देगी। भारत की ‘पड़ोसी पहले’ नीति इसकी विदेश नीति का एक अटूट हिस्सा है।

अमन ठाकुर – हिमाचल प्रदेश