• Tue. Jul 16th, 2024

ब्लड शुगर को चुटकियों में नियंत्रित करते हैं ये 5 रस, मधुमेह के मरीजों के लिए हैं वरदान

मधुमेह के मरीजों के लिए कुछ फलों और सब्जियों के रस बेहद लाभकारी हो सकते हैं। इन रसों में मौजूद विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद करते हैं और इंसुलिन संवेदनशीलता बेहतर कर सकते हैं। अगर नियमित तौर पर इन रसों का सेवन किया जाए, तो मधुमेह के मरीजों का ब्लड शुगर का स्तर अनियंत्रित नहीं होगा। इन रसों और इनके पोषक तत्वों के बारे में जान लीजिए।

करेले का रस मधुमेह के मरीजों के लिए बेहद लाभकारी हो सकता है। यह रस शुगर के स्तर को कम करने में मदद करता है।हेल्थलाइन के प्रतिवेदन के अनुसार करेले में विटामिन A और विटामिन C के साथ भरपूर मात्रा में आयरन भी होता है। करेले के रस में पॉलीपेप्टाइड-पी होता है, जो इंसुलिन की तरह काम करता है और शुगर के स्तर को कम करने में मदद करता है। करेला रोग प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत करता है।

तरबूज का रस प्रोटीन, फाइबर और कार्बोहाइड्रेट समेत कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है। यह विटामिन A और विटामिन C का समृद्ध स्रोत है। तरबूज एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है और टाइप 2 मधुमेह से संबंधित जटिलताओं को कम करने में मदद करता है। यह प्रतिरक्षा तंत्र के कामकाज में सुधार करता है, उपापचय को बढ़ाता है और आपकी त्वचा के लिए भी फायदेमंद है। यह शरीर को हाइड्रेटेड रखता है।

पालक का रस मधुमेह को नियंत्रित करने में कारगर साबित हो सकता है। पालक जैसी बिना स्टार्च वाली हरी सब्जियों में कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है, जिससे शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है। पालक खनिज, फाइटोन्यूट्रिएंट्स, फाइबर और आवश्यक विटामिन से भरपूर होता है। यह पोटेशियम का भी अच्छा स्रोत है, जो दिल की बीमारी, रक्तचाप और आघात के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

गाजर का रस स्वाद में मीठा होता है, लेकिन शुगर के स्तर को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। सही मात्रा में गाजर का रस पीने से शुगर का स्तर नहीं बढ़ता और शरीर को कई फायदे मिलते हैं। गाजर में विभिन्न खनिज, विटामिन और कैरोटीनॉयड भी होते हैं। जो एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य कर सकते हैं और शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। हालांकि यह रस ज्यादा मात्रा में नहीं पीना चाहिए।

आंवला का रस शुगर के लिए बेहद लाभकारी माना जाता है। आंवला विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत है और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। यह क्रोमियम का एक अच्छा स्रोत है। यह खनिज, कार्बोहाइड्रेट, उपापचय को नियंत्रित करता है और शुगर का स्तर बढ़ने से रोकता है। आंवले का रस दिल की बीमारियों के जोखिम को भी कम करता है और पाचन में सहायता करता है। यह लिवर और किडनी के स्वास्थ्य में सुधार करता है।

आशीष ठाकुर – हिमाचल प्रदेश