• Mon. Jul 15th, 2024

मोबाइल गेम के चक्कर में उड़े 36 लाख रूपए

हैदराबाद: स्मार्टफोन के आगमन से उनमें चलने वाले गेम्स भी उतने ही स्मार्ट हो गए हैं। कुछ माता-पिता अपने बच्चों को शांत या खुश करने के लिए अपना फोन दे देते हैं, परंतु पेरेंटल कंट्रोल का प्रयोग नहीं करते हैं। यह उनके लिए खतरनाक हो सकता है, क्योंकि हाल ही में हैदराबाद में 16 साल का एक बच्चे ने सिर्फ़ एक गेम में 36 लाख रुपए का माँ के बैंक से पैसा उड़ा दिया है।

हैदराबाद साइबर पुलिस के अनुसार फ्री फायर गेम जो पबजी की तरह प्रसिद्ध है, उसमें 16 साल का एक बच्चा 36 लाख रुपए बर्बाद कर चुका है। वह अपने दादा के स्मार्टफोन से गेम खेलता था। पहले तो उसने माँ के बैंक से 1,500 रुपए निकाले, फिर 10,000 रुपए।

फ्री फायर गेम में हथियार खरीदने के लिए 16 साल का एक बच्चा 36 लाख रुपए उड़ा चुका है। वह अपने दादा के स्मार्टफोन से गेम खेलता था। पहले 1,500, फिर 10,000, फिर 1.45 लाख, और फिर 2 लाख रुपए माँ के बैंक से निकाले। मां को पता चला जब वह पैसे निकालने के लिए बैंक में पहुंची। महिला का पति मर चुका है, और 36 लाख मेहनत की कमाई के पैसे हैं। महिला साइबर पुलिस से मदद मांगी है।

बच्चों को पागल कर रही वीडियो गेम्स

अमेरिका के सीएस मोट्ट चिल्ड्रेन हॉस्पिटल का 2020 का सर्वे कहता है कि वीडियो गेम्स से बच्चे होते हैं बुद्धिमान। 71 प्रतिशत माता-पिता वीडियो गेम्स को बच्चों के लिए अच्छा मानते हैं, और कहते हैं कि इससे उन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। 44 प्रतिशत माता-पिता गेम पर रोक लगाना चाहते हैं।

अमन ठाकुर – हिमाचल प्रदेश