• Thu. Jul 18th, 2024

भारतीय नौसेना ने दक्षिण चीन सागर में किया युद्धाभ्यास, चीन रख रहा पैनी नज़र

सिंगापुर: भारत गणराज्य और चीनी जनवादी गणराज्य के मध्य चल रहे सीमा विवाद के बीच भारत ने एक बड़ा कदम बढ़ाया है। भारत की नौसेना ने दक्षिण पूर्वी एशियाई राष्ट्रों का संगठन (आसियान) के संग मिलकर चीन के दबदबे वाले दक्षिण चीन सागर में युद्धाभ्यास किया। हालांकि, चीनी नौसेना (पीएलए नौसेना) यहां भी जासूसी का प्रयास कर रही है। चीन के कई समुद्री जहाज युद्धाभ्यास वाले इलाके के इर्द गिर्द चक्कर लगाते देखे गए। हालांकि, चीन के जहाजों ने युद्धाभ्यास में बाधा डालने का प्रयास नहीं किया।

भारत समेत नौ देशों की नौसेनाएं हुईं युद्धाभ्यास में सम्मलित

आपको बता दें कि भारत की नौसेना ने आसियान देशों के साथ सहयोग को बढ़ाने के मकसद से 7 और 8 मई को दक्षिण चीन सागर में युद्धाभ्यास किया। इस युद्धाभ्यास में भारत की नौसेना के अतिरिक्त आसियान देश जैसे फिलीपींस, इंडोनेशिया, सिंगापुर, मलेशिया, थाईलैंड, ब्रुनेई और वियतनाम की नौसेनाएं सम्मलित हुईं। इस युद्धाभ्यास को आसियान-इंडिया मेरीटाइम एक्सरसाइज नाम दिया गया।

भारत गणराज्य की ओर से मिसाइल गाइडेड विध्वंसक आईएनएस दिल्ली और बहु उद्देशीय पोत आईएनएस सतपुड़ा ने सिंगापुर के चांगी नेवल बेस के निकट हुए इस युद्धाभ्यास में भाग लिया। भारतीय नौसेना से संबंधित अफसरों ने बताया कि युद्धाभ्यास के दौरान चीनी समुद्री जहाज युद्धाभ्यास वाले इलाके के निकट चक्कर लगाते देखे गए। एक चीनी जहाज ने युद्धाभ्यास में सम्मलित जहाज का पीछा भी किया। हालांकि युद्धाभ्यास बगैर किसी बाधा के संपन्न हुआ।

दक्षिण चीन सागर को लेकर है चीन का कई देशों के साथ विवाद

समस्त दक्षिण चीन सागर पर चीन अपना दावा करता है, जिसके चलते आसियान देशों के संग चीन का विवाद है क्योंकि आसियान देश भी दक्षिण चीन सागर के भिन्न-भिन्न क्षेत्रों पर अपना दावा करते हैं। चीन-तिब्बत-भारत सीमा पर भी चीन का भारत से विवाद चल रहा है, ऐसे समय में भारत आसियान देशों के संग अपने रिश्तों को मजबूत करने में लगा है। इसमें आपस में प्रशिक्षण कार्यक्रम का संचालन, युद्धाभ्यास, हथियारों की खरीद आदि सम्मलित है। भारत ने पिछले वर्ष जनवरी में फिलीपींस के साथ 375 मिलियन अमेरिकी डॉलर का ब्रह्मोस मिसाइल का भी सौदा भी किया था। भारत का प्रयास है कि चीन के विरुद्ध आसियान देशों को ताकतवर बनाया जाए।

अमन ठाकुर – हिमाचल प्रदेश