• Tue. Jul 16th, 2024

प्रशांत द्वीपसमूह के देशों से बात करेंगे मोदी और बाइडन

प्रशांत महासागर क्षेत्र में स्थित स्वतंत्र पापुआ न्यू गिनी राज्य के प्रधानमंत्री जेम्स मारपे ने रविवार को यह कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन और भारत गणराज्य के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले माह भविष्य को लेकर बनाई जाने वाली रणनीति पर चर्चा करने हेतु प्रशांत द्वीप समूह के नेताओं के साथ होने वाली बैठक में सम्मलित होंगे।

प्रधानमंत्री मारपे के अनुसार, यह प्रथम ऐतिहासिक बैठक होगी, जिसमें प्रशांत महासागर क्षेत्र के सबसे बड़े देश में भविष्य के लिए बनाई जाने वाली रणनीति बनाने हेतु दुनिया की महाशक्तियां सम्मलित होंगी। वैसे, जेम्स मारपे विदेश के निवेशकों को लुभाना चाहते हैं। तभी अमेरिका, चीन और दूसरे देश पापुआ न्यू गिनी की ओर देख रहे हैं।

चीनी जनवादी गणराज्य के प्रभाव को कम करने की कोशिश

वर्ष 2018 में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पापुआ न्यू गिनी का दौरा किया था। इस क्षेत्र में चीन के बढ़ते हुए प्रभाव से निपटने हेतु संयुक्त राज्य अमेरिका ने अपनी कोशिशों की गति को बढ़ा दिया है। इसे देखते हुए राष्ट्रपति जो बाइडन द्वारा आयोजित की जा रही बैठक में सम्मलित होने वालों को ज़रूरी माना जा रहा है। आपको बता दें कि 10 प्रशांत महाद्वीप वाले देश और चीन एक व्यापक व्यापार और सुरक्षा समझौता करने में असफल रहे थे।

क्वाड समूह के शिखर सम्मेलन में होंगे सम्मलित

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन इस माह की 24 तारीख (24 मई) को क्वाड के शिखर सम्मेलन में भाग लेने हेतु ऑस्ट्रेलियाई राष्ट्रमंडल (ऑस्ट्रेलिया) जाएंगे। इसी बीच दोनों नेता पापुआ न्यू गिनी में भी रुकेंगे। आपको बता दें कि क्वाड समूह के सदस्यों में भारत और अमेरिका के साथ जापान और ऑस्ट्रेलिया भी शामिल हैं।

अमन ठाकुर – हिमाचल प्रदेश