• Sat. Jan 28th, 2023

प्रियंका शर्मा बनी यूपी रोडवेज की पहली महिला बस ड्राइवर

कहते है मनुष्य अगर ठान ले तो कुछ भी प्राप्त कर सकता है। उत्तर प्रदेश रोडवेज की पहली महिला बस ड्राइवर है प्रियंका शर्मा । प्रियंका शर्मा कुछ समय पहले तक एक साधारण हाउस वाइफ थी पर अपने पति की मृत्यु के बाद अपने परिवार के खर्चे को निकालने लिए ड्राइवर बनी, अब यह गर्व कि बात है कि वो उत्तर प्रदेश के पहली महिला बस चालक है। प्रियंका शर्मा बताती हैं कि यह काम उनके माँ बाप, परिवार तथा भाईयो को भी यह काम पसन्द नहीं है इसीलिए उन्होंने इनका साथ छोड़ दिया।
अगर व्यक्ति निरंतर प्रयास करता है तो उसे एक ना एक दिन सफलता जरूर मिलती हैं। अपने संघर्षो के साथ मनुष्य कुछ भी प्राप्त कर सकता हैं। उत्तर प्रदेश रोडवेज की पहली महिला बस ड्राइवर बताती हैं कि उनके पति को शराब की लत थी जिस कारण बहुत कम उम्र में ही उनकी मृत्यु हो गयी। उनके उपर दो बच्चो की जिम्मेदारी थी। वो अपने बच्चों के पालन पोषण के लिए दिल्ली आकर एक फैक्ट्री में 1500 रुपए पर काम करना शुरू किया। इसके साथ ड्राइविंग कोर्स सीखना शुरू किया। उसके बाद मुंबई जाकर ट्रक चलाने का काम करने लगी। 2020 में उत्तर प्रदेश में योगी के द्वारा निकाले गये महिलाओ के विकाश के लिए कई योजनाएं शुरू की इसी मे महिला बस चालक के लिए भर्ती निकली तब प्रियंका शर्मा ने फॉर्म भरा था। आज की तारीख में प्रियंका शर्मा उत्तर प्रदेश की पहली महिला बस ड्राइवर बनकर एक मिसाल कायम की है। प्रियंका शर्मा प्रेरणा है उन महिलाओ के लिए जो हार मानकर घर बैठ गयी है।

रिपोर्ट: वंशिका सिंह