• Thu. Aug 18th, 2022

जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर ड्रोन हमले के बाद, पीएम ने आज बुलाई हाई लेवल मीटिंग, शाह, राजनाथ, डोभाल सब रहें मौजूद

Jun 29, 2021 , ,

जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर ड्रोन से हमला होने के बाद आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक हाई लेवल मीटिंग बुलाई। इस बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल मौजूद रहें। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बुलाई गई इस उच्च स्तरीय बैठक में रक्षा क्षेत्र में भविष्य की चुनौतियों पर चर्चा की गई। इसमें इस बात पर भी जोर दिया गया की कैसे हमारे जवानों को आधुनिक उपकरणों से लैस किया जाएगा।
अतिसंवेदनशील जम्मू एयरबेस पर रविवार रात तकनीकी इलाके में दो विस्फोट किए गए थे। ये धमाके विस्फोट से लदे दो ड्रोन के जरिए हुए थे। इस धमाके में एक इमारत को नुकसान पहुंचा और दो भारतीय वायुसेना के कर्मियों को हल्की चोटे आई। इस हमले के बाद सोमवार को भी जम्मू में वायुसेना स्टेशन के पास दो ड्रोन देखे गए थे। जब सुरक्षाकर्मियों ने इन ड्रोनों पर फायरिंग की तो वह उड़ गए।
जम्मू-कश्मीर के पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह ने कहा कि रविवार को जम्मू एयरबेस पर जो हमले हुए उसके पीछे पाकिस्तान के आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का हाथ होने की संभावना है। सोमवार को भी जो ड्रोन देखे गए उसके पीछे भी इसी संगठन का हाथ बताया जा रहा है।
जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर ड्रोन से हुए हमले और सोमवार को दिखे दो ड्रोन के बाद इलाके में खतरे की घंटी बज गई है। जम्मू के इस पूरे बेल्ट में सेना के कई बेस, स्टेशन और कैंट के इलाके हैं। ड्रोन हमले के पहले कई पाक समर्थित आतंकियों ने इस इलाकें को अपना टारगेट बनाने की कोशिश की है पर वह नाकाम रहे हैं।
हालांकि जिस तरह से यह हमला ड्रोन के जरिए किया गया है, उससे यह साफ पता चलता है कि आंतकियों द्वारा प्रयोग की जाने वाले तकनीक में बड़े स्तर पर बदलाव हो रहा है। इस तरह के हमले को सीमापार पाकिस्तान से समर्थन प्राप्त है।
जम्मू-कश्मीर एयरबेस पर हुए ड्रोन से हुए इस आतंकी हमले की घटना को भी भारत ने संयुक्त राष्ट्र सभा में भी जोर-शोर से उठाया है। भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में घटना के बारे में कहते हुए कहा कि सामरिक और वाणिज्यिक संपत्तियों के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों के लिए हथियारबंद ड्रोन के इस्तेमाल की संभावना पर वैश्विक समुदाय को गंभीरता से ध्यान देने की जरूरत है।
सौरव कुमार

निधि सिंह ( ऑपेरशन हेड, नार्थ इंडिया)