• Thu. Aug 18th, 2022

कोरोना के कंट्रोल के बाद, जुलाई-अगस्त तक खुल सकते है कई राज्यों में शिक्षण संस्थान


कोरोना वैश्विक महामारी के पहली लहर के बाद ही देशभर में सभी शिक्षण संस्थानों को बंद करना पड़ा था। जैसे ही पहली लहर कम हुई और स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटिज को खोला गया वैसे कोरोना की दूसरी लहर कहर बनकर पूरे भारत पड़ टूटी। जिसके कारण सभी शिक्षण संस्थानों पर एक बार फिर से ताला लग गया। फिलहाल भारत ने कोरोना की दूसरी लहर पर भी काबू पा लिया है। भारत के ज्यादातर राज्यों में कोरोना के एक्टिव केस 1000 के नीचे पहुंच गए हैं। कोरोना के प्रकोप कम होने के बाद सभी के मन में यह सवाल उठ रहा है कि आखिर अब भारत में शिक्षण संस्थान कब खुलेंगे। कोरोना की दूसरी लहर पर काबू पाने के बाद से देश भर से कई पेरंट्स ने भी सरकार से अपील की है कि अब स्कूल,कॉलेज व यूनिवर्सिटीज को खोला जाए। वहीं पेरेंट्स के इन्हीं अपील को देखते हुए केंद्र सरकार तथा राज्य सरकारें विचार कर रही है कि उन स्थानों पर स्कूल,कॉलेज और यूनिवर्सिटीज खोले जाए जहां कोरोना का प्रकोप कम या खत्म होने के कगार पर है। आइए जानते हैं राज्य सरकार शिक्षण संस्थान खोलने पर क्या विचार कर रही है।
नई दिल्ली – दिल्ली सरकार फिलहाल किसी भी तरह के शिक्षण संस्थान खोलने पर विचार नहीं कर रही है। दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने साफ तौर पर कह दिया है कि जब तक कोरोना महामारी की स्थिति सामान्य नहीं हो जाती है तबतक दिल्ली में नर्सरी से बारहंवी कक्षाओं तक ऑनलाइन तथा सेमी-ऑनलाइन माध्यम से ही कक्षाएं चलती रहेंगी। दिल्ली में कोरोना के कारण कैसी स्थिति उतपन्न हो गई थी इससे हमसब अच्छी तरह से वाकिफ हैं। ऐसे में दिल्ली सरकार अभी के लिए तो शिक्षण संस्थान खोलने पर कोई भी विचार नहीं कर रही है।
बिहार – कोरोना के दूसरी लहर के कमजोर होने के बाद से बिहार में अनलॉक की शुरूआत हो गई थी। बिहार में फिलहाल अनलॉक-3 चल रहा है, जो 6 जुलाई को समाप्त हो जाएगा। ऐसे में बिहार में 6 जुलाई से शैक्षिणिक संस्थान खोलने पर विचार किया जा रहा है। बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा कि प्रदेश में 6 जुलाई से चरणबद्ध तरीकें से शिक्षण संस्थान खोले जाएंगे। पहले चरण में विश्वविद्यालय और कॉलेज खोले जाएंगे, दूसरे चरण में कक्षा 9-12 तक के विद्यालय खोले जाएंगे और तीसरे और अंतिम चरण में कक्षा 1-8 तक के स्कूल खोले जाएंगे। हालांकि अभी इस पर आधिकारिक मोहर नहीं लगी है। इस पर अंतिम फैसला आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में होगी कि क्या बिहार में शिक्षण संस्थान खोलना सही है या नहीं?
उत्तर प्रदेश – भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में भी कोरोना पर लगभग काबू पा लिया गया है। कोरोना के कंट्रोल में आने के बाद शासन ने भी आदेश दिया है कि प्रदेश में 1 जुलाई से स्कूल फिर से खोले जाएं। लेकिन फिलहाल स्कूल खोलने पर एडमिशन और प्रशासनिक कार्य ही किए जाए। ऐसें में सरकार ने साफ कर दिया है कि प्रदेश में स्कूल खुलेंगे पर अभी वहां बच्चों के लिए ऑफलाइन क्लास शुरू नहीं होंगे। ऐसे में स्कूल में प्रशासनिक कार्य को करने के लिए शिक्षक और कर्मचारियों को ही स्कूल जाना होगा।
भारत के अलग-अलग राज्यों में शिक्षण संस्थान खोलने के विचार को लेकर एम्स के चीफ डॉ.रणदीप गुलेरिया ने कहा कि मुझे निजी तौर पर लगता है कि अब शिक्षण संस्थान खोलने पर काम किया जाना चाहिए। स्कूल,कॉलेज व यूनिवर्सिटीज बंद रहने से युवा पीढ़ी के ज्ञान पर काफी असर पड़ा है। खासतौर पर उन गरीब बच्चों पर जो कोरोना के इस कठिन समय में ऑनलाइन क्लासेज भी नहीं कर सके।
सौरव कुमार