• Sat. Aug 13th, 2022

31 जुलाई को आएंगे CBSE और ICSE 12वीं बोर्ड के रिजल्ट, 10वीं और 11वीं के नंबरो के आधार आएगा रिजल्ट

Jun 17, 2021 , , , ,

CBSE और ICSE के 12वीं बोर्ड के रिजल्ट 31 जुलाई को आ जाएंगे। इसके लिए मार्कशीट तैयार करने को लेकर बनी 13 सदस्यीय समिति ने आज अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी है। उन्होनें अपनी रिपोर्ट में सुप्रीम कोर्ट को बताया कि 10वीं, 11वीं और 12वीं प्री बोर्ड के रिजल्ट को आधार बनाकर 12वीं बोर्ड के फाइनल का रिजल्ट बनाया जाएगा। रिजल्ट बनाने के बाद नतीजों की घोषणा 31 जुलाई को कर दिए जाएंगे।
सीबीएसई ने बताया 12वीं फाइनल के रिजल्ट 10वीं के 30 प्रतिशत, 11वी के 30 प्रतिशत और 12वीं के 40 प्रतिशत अंक के आधार पर निकाला जाएगा। दरअसल इसके लिए कक्षा 10वीं के पांच विषय में से 3 सबसे अच्छे मार्क को लिया जाएगा। इसी प्रकार 11वीं के पांच विषयों का एवरेज लिया जाएगा और 12वीं प्री बोर्ड प्रैक्टिकल एग्जाम का नंबर लिया जाएगा। कुल मिलाकर 30:30:40 के फॉर्मूले पर रिजल्ट की घोषणा की जाएगी।
सुप्रीम कोर्ट में सीबीएसई ने कहा कि परिणाम समिति ने परीक्षा की विश्वसनीयता के आधार पर वेटेज पर फैसला किया, स्कूलों की नीति प्रीबोर्ड में ज्यादा अंक देने की है, ऐसे में सीबीएसई के हजारों स्कूलों में से प्रत्येक के लिए परिणाम समिति गठित होगी, स्कूल के दो वरिष्ठतम शिक्षक और पड़ोसी स्कूल के शिक्षक “मॉडरेशन कमेटी” के रूप में कार्य करेंगे ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि स्कूल ने अंकों को बढ़ा-चढ़ाकर नहीं बताया है, यह कमेटी छात्रों के पिछले तीन वर्षों के प्रदर्शन को आंकेगी।
केंद्र सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट को बताया गया कि 31 जुलाई तक CBSE 12वीं के रिजल्ट घोषित कर दिए जाएंगे, जो बच्चे परिणाम से संतुष्ट नहीं होंगे उन्हें दोबारा परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा, इसके लिए गाइडलाइन बनाई जा रही है। केंद्र ने कहा कि सीबीएसई ने पहली बार इस अभूतपूर्व संकट का सामना किया है।
ऐसे आएंगे ICSE 12वीं बोर्ड के नतीजे
सीबीएसई की ही तरह आईसीएसई ने भी 12वीं के रिजल्ट को जारी करने की नीति सुप्रीम कोर्ट को बताई है। 10वीं के नंबर (प्रोजेक्ट और प्रेक्टिकल को लेकर) और फिर 11वीं और 12वीं के प्रोजेक्ट और प्रेक्टिकल में मिले नंबर को आधार बनाकर 12वीं की मार्कशीट बनाई जाएगी। पिछले साल भी आईसीएसई ने इसी नीति से 12वीं के नतीजे घोषित किए थे।
सुप्रीम कोर्ट ने CBSE और ICSE की प्रस्तावित मूल्यांकन नीति को स्वीकार कर लिया है. अब दोनों बोर्ड अपनी-अपनी नीति पर काम कर सकते हैं, 12वीं की कोई परीक्षा नहीं होगी लेकिन उन छात्रों के लिए सुधार परीक्षा आयोजित की जा सकती है जो अंक सुधारना चाहते हैं, 31 जुलाई तक नतीजे आने की संभावना है। साथ ही बोर्ड की ओर से शिकायत समाधान समिति का भी गठन किया जाएगा।
सौरव कुमार