• Sun. Jun 20th, 2021

दुनियाभर में फैला कोरोना राजस्थान के इस हिस्से को छू भी नहीं सका

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया। भारत में भी इसने जमकर कहर बरपाया है। राजस्थान भी गत करीब सवा साल से इस महामारी से जूझ रहा है। लेकिन इन सबके बीच राजस्थान में एक ऐसा इलाका भी है जहां यह महामारी फटक भी नहीं पाई है। तस्वीरों में देखिये यहां की जीवन शैली।यह इलाका पश्चिमी राजस्थान में भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर स्थित जैसलमेर जिले में स्थित है। जैसलमेर जिले मुख्यालय से करीब 125 से 250 किलोमीटर तक का शाहगढ़ क्षेत्र आकार में काफी बड़ा है। सैकड़ों किलोमीटर क्षेत्र में फैले इस इलाके में करीब 10 हजार लोगों की आबादी निवास करती है। लेकिन कोरोना महामारी यहां दस्तक तक नहीं दे पाई है। यह इलाका अब तक इस महामारी से पूरी तरह से महफूज रहा इसके पीछे जो वजह है उसे जानकार आप भी हैरान रह जायेंगे। कोरोना की रोकथाम के लिए सरकारों ने जो जरूरी गाइडलाइन इस दौर में तय की थी, उसकी पालना इस क्षेत्र के वाशिंदे स्वाभाविक तौर पर वर्षों से करते आ रहे हैं।

कोरोना ने अपनी दूसरी लहर में सीमावर्ती जैसलमेर जिले की 206 में से 203 ग्राम पंचायतों तक पांव पसार लिए थे, लेकिन वह शाहगढ़ और गत वर्ष इससे अलग कर बनाई गई दो अन्य ग्राम पंचायतों हरनाऊ और मांधला तक यह नहीं पहुंच पाई। यह रेतीला इलाका अपनी भौगोलिक परिस्थितियों के अलावा यहां के वाशिंदों के आपसी भाईचारे के लिए भी विख्यात है।जिला मुख्यालय से सैकड़ों किमी की दूरी पर बसे इन ग्रामीणों तक कोरोना नहीं पहुंचने का बड़ा कारण ग्रामीणों का बाहरी लोगों से संपर्क ना के बराबर होना है। जिले में वैसे दो दर्जन ग्राम पंचायतें सीमावर्ती इलाके में शामिल की जाती हैं। लेकिन उनमें से केवल तीन ग्राम पंचायतों के कोरोना से बचे रहने पर प्रशासन भी ग्रामीणों की जीवन शैली की सराहना करते नहीं थकता है।

सतीश कुमार (ऑपेरशन हेड, साउथ इंडिया)