• Wed. Jun 23rd, 2021

18+ देशवासियों को पीएम मोदी ने दिया तोहफा, मुफ्त वैक्सीन का ऐलान किया

कोरोना की दूसरी लहर से लड़ रहे देश को आज प्रधानमंत्री ने शाम पांच बजे संबोधित किया। इस संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से कई बड़े ऐलान भी किए गए। प्रधानमंत्री ने कहा 21 जून योग दिवस के दिन से भारत में 18+ वाले सभी नागरिकों को भारत सरकार की ओर से मुफ्त वैक्सीन लगाई जाएगी। इसके अलावा पीएम ने कहा कि राज्यों से वैक्सीनेशन का काम वापस लिया जाएगा और अब देश में वैक्सीनेशन का काम केंद्र संभालेगी।
आपकी जानकारी के लिए बता दें की अभी तक वैक्सीनेशन का 50 फीसदी कार्य केंद्र 25 फीसदी राज्य तथा और 25 फीसदी प्राइवेट सेक्टर के हाथ में था। पर आज प्रधानमंत्री के ऐलान के बाद अब वैक्सीनेशन का 75 फीसदी कार्य केंद्र और 25 फीसदी कार्य प्राइवेट सेक्टर संभालेंगे।
देश के नाम इस संबोधन में पीएम ने दुख जाहिर करते हुए कहा कि दुनिया के कई देशों की तरह भारत भी बहुत बड़ी पीड़ा से गुजरा है। कोरोना के कारण कई लोगों ने अपने परिजनों को खो दिया, मेरी संवदनाएं उन सभी परिवार वालों के साथ है जिन्होंने अपने परिजनों को इस त्रास्दी में खो दिया है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस संबोधन में एक और बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि भारत सरकार अब नवंबर, 2021 तक देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन देगी। केंद्र सरकार ने यह स्कीम कोरोना के पहले लहर के समय भी लाई थी, अब देश में कोरोना के दूसरे लहर के बाद भी स्थिति पहले की तरह है ऐसे में केंद्र सरकार इस योजना को दोबारा लेकर आ रही है।
पीएम मोदी ने कहा कि ऐसी भीषण त्रास्दी 100 साल में भी नही आई। पूरे देश में कोरोना की लड़ाई मिलकर लड़ी है। पिछले 1.5 साल में देश में हेल्थकेयर स्ट्रकचर को बढ़ाया गया। कोरोना काल के पहले देश में ऑक्सीजन की इतनी भारी कमी कभी नहीं हुई, सेना के तीनों टुकड़ियां को लगाया गया हमने दुनिया के हर कोने से जो भी लाया जा सकता था, वह मंगाया।
कोरोना के इस लड़ाई में सबसे बड़ा हथियार हैं कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना। इसके अलावा कोविड वैक्सीन ने हमें इस बीमारी से बचाने में कवच का काम किया हैं। भारत के पास अगर खुद की कोरोना वैक्सीन न होती तो आज हाल बहुत बेकार हो सकते थे। पिछले 50 से 60 सालों का इतिहास यही बताता है कि दुनिया में वैक्सीन आने के कई दिनों बाद हमारे देश को टीका मिल पाता था।
रिपोर्टर: सौरव कुमार