• Tue. Nov 30th, 2021

उपचुनाव के नतीजे मंगलवार को हुए घोषित, कांग्रेस ने जीती हारी बाजी।

भारत के 14 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में 29 विधानसभा और तीन लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे मंगलवार को घोषित हुए। इसमें भारतीय जनता पार्टी बीजेपी ने अपने सहयोगियों के साथ असम सहित उत्तर-पूर्व में अपने प्रभुत्व की फिर पुष्टि की है। वहीं, पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस टीएमसटीएमसी और कांग्रेस ने हिमाचल प्रदेश में एक बड़ा उलटफेर किया। भाजपा के पास खुशी का कारण है असम, मध्य प्रदेश, उत्तर-पूर्व और तेलंगाना, जहां उसने कई सीटें जीती हैं। हालांकि भगवा पार्टी के लिए हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक और बंगाल में प्रदर्शन चिंताजनक रही है। कांग्रेस हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और कर्नाटक में अपने प्रदर्शन से उत्साहित महसूस कर रही है। कर्नाटक में उसने वर्तमान मुख्यमंत्री बीएस बोम्मई के गृह जिले में सीट जीतकर बड़ा झटका दिया है। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) यहां एक भी सीट जीतने में असफल रही। दादरा और नगर हवेली, शिवसेना के लिए महाराष्ट्र के बाहर पहली लोकसभा सीट बन गई है।अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले यह अंतिम दौर का उपचुनाव है। कुल मिलाकर भाजपा और उसके सहयोगियों ने 16 विधानसभा सीटों और एक लोकसभा सीट पर जीत हासिल की।इसने सत्तारूढ़ भाजपा से मंडी लोकसभा क्षेत्र और जुब्बल-कोटखाई विधानसभा क्षेत्र को छीन लिया और अर्की और फतेहपुर विधानसभा सीटों को बरकरार रखा। राज्य में अगले साल नवंबर-दिसंबर में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। सबसे बड़ा उलटफेर मंडी में हुआ है। पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह ने 7,490 मतों से जीत हासिल की। उन्होंने चार राज्यों की सभी 10 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल की। असम में पांच सीटों पर उपचुनाव हुए थे। सत्तारूढ़ भाजपा ने तीन पर जीत हासिल की।मार्च-अप्रैल में हुए चुनाव में बीजेपी जिस दिनहाटा सीट पर 57 और शांतिपुर पर 15,878 वोटों से जीत हासिल की थी, वहां इस उपचुनाव में क्रमश 160,000 और 64,675 वोटों से चुनाव हार गई। इन निर्वाचन क्षेत्रों में इसलिए उपचुनाव हुए, क्योंकि यहां के विजेताओं ने अपनी लोकसभा सीटों को बरकरार रखने के लिए विधायकों के रूप में शपथ नहीं ली थी।कांग्रेस ने उनके गृह जिले हंगल निर्वाचन क्षेत्र में जीत हासिल की। कांग्रेस प्रत्याशी श्रीनिवास माने 7373 मतों से जीते। सिंदगी में भाजपा ने कांग्रेस को 30,000 से अधिक मतों से हराकर शानदार जीत हासिल की।