• Thu. Dec 8th, 2022

क्या बंद होने वाले हैं दिल्ली में चल रहे सभी पुराने वाहन, फिटनेस सर्टिफिकेट के साथ चला पाएंगे पुराने वाहन

अगर आप अब भी अपनी पुरानी कार का कर रहे है इस्तेमाल तो ये खबर आप के लिए है। सरकार सड़को पर पुराने वाहनो को हटाने का प्रयास अब भी जारी है। बता दे कि अब भी देश में पुराने वाहनो की संख्या 2 करोड़ से भी अधिक सामने आई है । इस बात की जानकारी पर्यावरण राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने लोकसभा में दी है।

पुराने वाहन होंगे बंद:

सरकार द्वारा निरंतर प्रयास जारी है कि सड़क पर पुराने वाहनो को हटाया जाए इस पर पर्यावरण मंत्री अश्विनी चौबे ने जानकारी दी है, कि देश में 20 साल पुरानी सबसे ज्यादा गाड़िया कर्नाटक राज्य में है। मिली जानकारी के अनुसार 39.49 लाख पुरानी गाड़िया कर्नाटक राज्य में है। देश कि राजधानी दिल्ली दूसरे नंबर पर है, बतां दे कि दिल्ली में कुल 36.14 लाख गाड़िया 20 साल से भी ज्यादा पुरानी है।

पुराने वाहनो को बंद करने का मकसद :

सरकार का पुरानी गाड़ियो को सड़को पर से हटाने के पीछे का मकसद पर्यावरण है। ये बात साफ है कि पुराने वाहनो से हो रहे प्रदूषण के कारण सरकार इन वाहनो को सड़को पर दौड़ने के लिए मना किया जा रहा है।

इस से पहले भी दी थी जानकारी:
सरकार की ओर से इस बारें में पहले भी जानकारी दे चुके है जहां सरकार ने 10 साल पुराने डीजल वाहन और 15 साल पुराने पैट्रोल नहीं चल सकते है।

देना होगा फिटनेस सर्टिफिकेट:
सरकार ने नई पॉलिसी को जारी कीया था जिसे आप सबी वाहन स्क्रैप पॉलिसी के नाम से जान सकते है। इसी पॉलिसी के तहत अगर आप अपनी पुरानी गाड़ियों को अब भी चलाना चाहते है। तो उसके लिए आपको देना होगा वाहन फिटनेस सर्टिफिकेट इस सर्टिफिकेट लेने के बाद थोड़ा ज्यादा शुल्क देकर उसे चलाते रहने की अनुमती होगी यदी फिटनेस सर्टिफिकेट में किसी भी प्रकार से आप फेल हो जाते है। तो आपके वाहन को कबाड़ में भेज दिया जाएगा जिस पर आपको निश्चित राशी का भुगतान भी किया जाएगा।

सार्थक अरोड़ा (स्टेट हेड दिल्ली)